Saturday, May 31, 2014


ज़िन्दगी एक मेला है 
यहाँ रिश्तों की जमघट में 
हर इंसान अकेला है 

कठपुतली का तमाशा 
ग़म, ख़ुशी हताशा 
आशा-निराशा का झूला है 
ज़िन्दगी एक मेला है

दया-मोह -माया  शरबत की घूँट 
रईस हाथी, सयाना ऊंट 
हर खिलौना अलबेला है 
ज़िन्दगी एक मेला है. 

तोता भविष्य देखता 
पंडित चाट बेचता  
कौन गुरु कौन यहाँ  चेला है 
ज़िन्दगी एक मेला है 

जादुई आइना हज़ारों रूप 
रात-दिन छाँव-धूप 
सुबह -शाम की बेला है 
ज़िन्दगी एक मेला है 

मौत के कुँवें  में "फ़ट-फ़ट!!"
ख्वाब जलते सरपट 
आगे नए अरमानों का रेला है 
ज़िन्दगी एक मेला है

जवान बूढ़े जोकर 
रोते-हँसते  मिलकर 
जुदाई-मिलन का झमेला है 
ज़िन्दगी एक मेला है 

ज़िन्दगी एक मेला है 
रिश्तों के मरघट  में 
हर इंसान अकेला है 

That time of the year

I see from my bed
Through the window
Trees are starting to shed
And soon the cold wind will blow
Autumn is here.

A leaf wanders through the air
Swayed by the cool breeze
Nonchalantly, it leaves the branches bare
And settles on my bed with ease
I know, winter is near.

Summer took away the heat
and the passion's gone as well
I twist and turn and bleat
"Oh dear!" I dwell.
"It is that time of the year."

Tuesday, May 27, 2014


Mesmerized by her beautiful wings
With patches of yellow and blue
and mix of myriad hues
Beguiling me in a chase
Like a child in the wild.
From flower to flower she moves
to give and to take
for mutual sake
and so do I,
To catch her and never let her fly.
With gleaming eyes
For she was my coveted prize.
I close in, then trip
She gives me a slip
I pump my fist in the air
and sigh
as she hops onto another flower
Life, she is a butterfly.

Tuesday, May 20, 2014

Of Revelation

Love is paradise
Equally, for the fool and the wise
Between the far and the near
Often you hear.
Serene as morning dew
Lighter than feather
Love gushing through streams
Picture perfect like in your dreams.

But dreams they don't come true
Not for me, not for you
So I'd reveal to you the mystery
Of love's magnificent history.
A revelation

Love will take you to the shore
Intoxicating with lull
It will shake you to the core
Love will test you, even punish
It will push you to the brink
As you walk the line, you think
"Is it here that I belong?"
For now you know
Love is not the rosy cozy song
about drizzles and fluffy snow
You thought it was
Its rather blues and jazz

Love is for the loner
Not for the sane and sober
It showers and empowers
Courage and zing
You feel like a king!
And when its all merry and gay
It takes it all away
Leave you in a mire
In fire, straits dire

But it is not for me to say
Or save
You can wait for your day
To ride the wave
Its for each one of us to make
For love is a beautiful mistake
But here's the secret, my friend
Wave don't like writings on the sand!

Monday, May 12, 2014


मैं हूँ फक्कड़
सब मेरे अपने हैं, पर कोई मेरा रिश्तेदार नहीं
वसुधा सारी मेरी है, दो-चार मेरे परिवार नहीं
सड़क की धूल मैं, गलियां हैं मेरा ठिकाना
प्रकृति मेरी प्रेमिका है, उसका ही मैं दीवाना
जब जागता जग, मैं सोता हूँ
जब हँसते सब, मैं रोता हूँ
इस भाग-दौड की जीवन से न मेरा कोई नाता है
मेरे मन में है एक ही सुर, बस यही गीत वो गाता है
मैं हूँ फक्कड़

Love for all

Pure be thy heart
Pure be thy soul
No hatred, no jealousy
Have only love for all


अल्प जिसमें ज्ञान है
करता वही अभिमान है 
जो सुन सके, जो सह सके
वही तो बस महान है



Sing me a song, mother!

Put me to sleep
For I have walked too long
I need a slumber deep.

Give me a hug, mother!
Put me to rest
For I am left sapped
By life's incessant test.

Love me forever, mother!
Put me in your core
For such love is so rare
Such fondness is found no more.

Oh mother!

Sunday, May 11, 2014


मैं तुमसे  कभी कहता नहीं
पर रह रह कर
तुम बड़ी  याद आती हो माँ

पिताजी  कहते हैं "अब तुम बड़े हो गये हो"
"भविष्य की सोचो … चतुर-गंभीर रहो.... !
 दुनिया निर्दयी है, संभल कर चलो "

चतुराई , गंभीरता सब
तुम्हारी गोद में कहीं ग़ुम हो  जाते हैं
और आँखों में भविष्य नहीं दीखता
केवल बचपन के दिन याद  आते हैं!

तुम्हारा लाड़-प्यार, दुलार
झूठमूठ की डांट , स्नेह भरी मार
महंगी दुकानो के पकवानो में
तुम्हारे खाने सा स्वाद नहीं
हरेक कौर पे याद आता है तुम्हारा छोह
कहानियाँ , मिन्नतें, गुस्सा
इस कमरे से उस कमरे
थाली लेकर मेरे पीछे भागना

समय बदल गया है, आगे  बढ़  गया है
लोग बदल गये हैं , और मैँ भी
लेकिन बदला नहीं तुम्हारा प्यार
मेरे लिए तुम्हारी फ़िक्र
मेरी ख़ुशी में तुम्हारी हॅंसी
बदली नहीं तुम,
माँ !

तुम्हारी बातें लिखने को समय पूरा नहीँ पड़ता
न शब्द, न स्याही न पन्ने
इसीलिए बस इतना कह रह हूँ रहा हूँ
रह रह कर
तुम बड़ी  याद आती हो माँ !